समर्थक

मार्च 29, 2019

आसपास के लोग (कहानी संग्रह) समीक्षा

(पुस्तक के विषय में )
लेखक : कृष्ण मनु
आसपास के लोग (कहानी संग्रह)
सम्पर्क नम्बर : ९९३९३१५९२५
प्रकाशक : विश्व साहित्य परिषद
आसपास के लोग (कहानी संग्रह )
मेरे मन की बात कहानी पढ़ते हुए...😊

23 फरवरी को मिली हमें, कहानी संग्रह 'आसपास के लोग'
पढ़ी एक, थाली धरी सामने तो जरुरी हो जैसे लगाना भोग |
उठायी दुसरे दिन भी लिया आत्मकथ्य का पेज झाँक
पढ़ी कहानी भी एक दो फिर उसे धर दी हमने ताक |
मार्च में रही व्यस्तता पर लगा रहा शर्त का खटका
रह रहकर लिया हाथ फिर साइड में सहेज रखा |
शर्त क्या थी भूल गए हम भुलक्कड़ी से था अपना तो नाता
फिर से उठाई किताब हमने दो कहानी को दीमक सी चाटा |

‘आसपास के लोग’ की कहानियां बहुत ही भायीं
‘गफूर भाई’ ने तो दिल में ज्यादा ही जगह बनायी |

‘जंग’ का ‘राकेश’ ‘करमा के करम’ का क्या कहें
मेरे ही तो आसपास के ये सभी किरदार लगें |
अग्रेंजी हिंदी मिक्स ने करी कुछ चटपटी चाट तैयार
पढ़ते हुए 'पुराना चश्मा' हमें लगा लेखक होना है भार |

'अव्यक्त संवेदना' में व्यक्त दर्द घायल मेरे दिल को कर गया
'सरिता मंइयां साब' की किरदार ने अंत में संवेदना भर गया |
फिर बढ़ी आगे, ‘पथराई आंखों की भाषा’ बहुत कुछ कह गई
कुछ पढ़ कहानी मनन करने लगी, कुछ ने आंखों में लगाई झड़ी |

'एक बार फिर' में मजदूर की मज़बूरी
 तो 'शिनाख्त' में मधुर गृहस्थी की गुंथन
एक में दारु में सब दर्द पी जाना
तो दूजे में सूरत से ज्यादा सीरत की जतन |

ज्यादातर कहानी के किरदार के हाथों में
घातक सिगरेट मुई जलवाई गयी
'कोहरा छटने के बाद' भी मजदूरों के
 शोषण पर हमारी सुई अटक ही गयी |

'ताले पर ताला' शीर्षक ने हमें उलझाया
और अंदर क्या लिखा जानने को भी उकसाया
पढ़ते हुए कमरा आवंटन का भ्रष्टाचार समझ आया
और साथ ही चौथे ताले ने खूब हंसाया |

'भुगतान' में कर्तव्य-परायणता को दिलाया लेखक ने सम्मान
दुआ हमारी, ऐसी कहानी करें साहित्य में स्थापित कीर्तिमान |
मजहब के खातिर मैं अपनी ज़िन्दगी को तबाह नहीं करूँगा
'भविष्य की झलक' में इस कथन ने विद्रोह का भान कराया |

सहज सरल भाषा में लिखी कहानी संग्रह की हमें भेंट
मनु भैया आप करना क्षमा जो मेरी प्रतिक्रिया हुई लेट |
लिखकर आपने किया मुकाम हासिल, और भी आगे बढ़ें
हम जैस नवांकुरों के लिए आप यूँ ही मार्ग प्रशस्त करें |

व्यक्त करते हैं आभार, जो आप अपनी कहानी पढ़ने लायक हमें समझे
यूं ही समाज उद्धारक बढ़िया लिखकर, आप हमारे प्रेरणा स्रोत हमेशा बनें |

---००---
सविता मिश्रा 'अक्षजा'
आगरा, ९४११४१८६२१
2012.savita.mishra@gmail.com

फ़रवरी 14, 2019

शहीदों को नमन

दिल मेरा मौन हुआ, ठाड़ा दिमाग मौन
उनके परिजनो को अब धीरज धराये कौन
हो गए शहीद पहलगाम में जवान पचास
उनकी माँ के आँसूओं को अब सुखाए कौन । sm 😢😢
सविता मिश्रा 'अक्षजा'
14/2/2019

फ़रवरी 07, 2019

खूबसूरत सा गुलाब


आज 7/2/2019 को रोज डे पर एक कविता 
कोई मुझे भी तो  एक पकड़ाओं यारा गुलाब 
देखे बहुत दिन हो गए मुझे एक न्यारा गुलाब
मचलता गुलाब डे भी देखो आज आ गया इधर
न शरमाओं तुम दे दो मुझे भी एक प्यारा गुलाब

हूँ मिज़ाज से गर्म लेकिन ये दिल है कोमल बड़ा
दिल मचलता है मेरा भी लेने को सुनहरा गुलाब
लाल हो या हो पिंक सा फिर चाहे काला ही दे दो
मुझे भी रोज डे पर दो तुम आज ढेर सारा गुलाब 

पचास की ही होने को हूँ सठियाई नहीं हूँ जनाब 
मचल जाऊँ देखकर मैं भी खूबसूरत सा गुलाब |
सविता मिश्रा 'अक्षजा'

अगस्त 31, 2018

‘हिन्दी हाइकु’ वेबसाइट में छपे हमारे हायकु

1

माक़ूल नहीं, 

पिशाच हर कहीं 

सँभल नारी ।

2

दोष खुद का

छिद्रान्वेषी मानव

भीड़ बने हैं।

-0-
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/03/23/%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%81%E0%A4%9F%E0%A5%87/


टहनी नग्न

पतझर की ऋतु

शाखें वीरान।

2

शाख से टूटे

चुर-मुर का शोर

जर्द पत्तियाँ ।

3

ठूँठ मुस्काया

देख पेड़ की दशा

डाह प्रगाढ़।

4

जीवन- चक्र

पतझर के बाद

सृजन हुआ।

5

नीड़ सघन

मधुमास के पहले

गेह वीरान।

6

असंगत है

पतझर-वसंत

फिर भी साथ।

7

वृक्ष सलोना

हर नोक थी सूनी

कोंपल फूटी।

8

शिशिर बीता

नन्ही-नन्ही कोपल

मुस्करा उठी।

9

जर्द हो पत्ते

पतझर की घड़ी

गाछ लज्जित।

-0-
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/04/11/%E0%A4%AA%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%A4%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%AD%E0%A4%81%E0%A4%B5%E0%A4%B0/


1

वृक्ष कटान

हताहत धरती

क्रूर इंसान।

2

सलिल लुप्त

सुबकती धरती

वीरुध -शून्य।

3

धरती पुत्र

नीलाम की अस्मिता

धन बटोर।

4

हृदय–घाव

दिखलाती धरती

खुलीं दरारें।

5

आहत आज

ये वसुमती धरा

दुखित हुई।

6

जेवर वृक्ष

धरती हरी-भरी

गर्व करती।

7

भू-गर्भ-जल

कराहती धरती

अति दोहन।

8

नेह अपार

धरती गदराई

सुधा बरसे।

-0-

( वीरुध= पेड़-पौधे , वनस्पति)
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/06/27/%E0%A4%B8%E0%A5%81%E0%A4%AC%E0%A4%95%E0%A4%A4%E0%A5%80-%E0%A4%A7%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A5%80/

1

हृदय -शूल

बनते जीवन के

कुटिल शब्द ।
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/07/04/%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A5%80-%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%87%E0%A4%95%E0%A5%81-%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%81%E0%A4%9A%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%B5%E0%A4%B0%E0%A5%8D/


3-सविता मिश्रा

1

मेघ विप्लव

झमाझम बरस

भू त्राहि- त्राहि।

2

चूनर हरी

बूढ़ी  धरा युवा-सी

ओढ़ के चली।

3

सावन आया

मही जवान हुई

मेघ मिलाप।

4

धरा रसीली

सावन लगते ही

उन्मुक्त सृष्टि ।

-0-
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/07/18/7532/


-सविता मिश्रा

1

बहन बिना

अँखियाँ अश्रु- भरी

राखी त्योहार   

2

गर्व से फूली

बाँध सैनिक हाथ

बहना प्यार 

3

प्रेम बंधन

बाँधी भाई कलाई

अमोल राखी

4    

बहन प्यार

कच्चा नहीं, फौलादी

रक्षाबंधन

-0-
https://hindihaiku.wordpress.com/2014/08/10/7616/

जुलाई 27, 2018

दोमुँहे-

"मन की"

दोमुँहों से रहना सदा बच के
चलो जरा संभल-संभल के

निंदक तक तो सब ठीक हैं
दुरी उनसे ,जो करते पीक हैं

दोमुँहें  होते हैं घातक बेहद
बचना उनसे मुश्किल है शायद

सामने मुँह पर लल्लो-चप्पो करते हैं
पीठ पीछे वही जहर उगलते फिरते हैं

सांप- छुछुंदर तो हैं आपस में दुश्मन
दोमुँहें तो आपके अपने बन छलते हैं

अतः चलना जरा उनसे संभल-संभल के
वर्ना हाथ मलते रहोगें खड़े हक्के-बक्के । 
सविता मिश्रा
 यूँ ही फालतू बकवास
हो कुछ हास-परिहास😊
:)

पुरानी कविता कमेंट में पड़ी हुई आज किसी के लाइक करने पर मिला💁
https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1150622668309320&id=100000847946357

गुरु नमन

हर तरफ तो हैं गुरु बिखरें
किसको-किसको नमन करें
सीख देने वाले  मिलें जहां बहुत
ओ फेसबुक हम नमन तुझे  करें! #सवितामिश्रा

जुलाई 24, 2018

लुटेरे-


समाज में और फेसबुक पर भी कई लुटेरे बैठें हैं।
पैसा हो या आपकी रचना, फटाफट से लूट लेतें हैं।
सब्ज़बाग सपनों का दिखा, करके मीठी-मीठी बात
आपकी मेहनत का फल लेकें धीरे से फूट लेतें हैं। #अक्षजा
24/7/2018

अप्रैल 16, 2018

रहना सीखो-

कल किसने देखा है
क्या होगा !
आज में जीना सीखो 
दूजे के प्रति रुखे
अपने व्यवहार को
तुम बदलना सीखो
सोते सोते दिन बिता रहे हो
तो जरा जागना सीखो
पाप कर्म को पुन्य में
तुम तनिक बदलना सीखो
मान लो सविता की बात
हर एक क्षण तुम जीना सीखो
कल रहे, न रहें हम
आज ही सब से प्रेम से
मिल-जुलकर रहना सीखो |सविता मिश्रा 'अक्षजा'

मार्च 26, 2018

हद कर दी

1. वाह भगवान् अब हद कर दी
बनाये शैतान या रब हद कर दी।
2..मरीज हुए हैरान परेशान....आगे क्लिक करने पर 



http://kavitabhawana.blogspot.in/2014/03/blog-post_8.html

फ़रवरी 22, 2018

कुछ मन की

नया मौसम भी कम ख़ुशगवार नहीं
खिलखिलाइयें कि आप वर्तमान में हैं😜

बस दिमाग है कभी कभी नहीं चलता। 
#sm

--००--

हम तेरे हुए तो क्या! तू मेरा हो जाये तो बात बने!!

#sm मन लागा यार...

--००--

मेरी जिंदगी की शाम हो तो ऐसी हो 
कि 

अभी अभी हुआ भोर हो की जैसी हो। #sm
-
शाम हो अभी अभी हुआ भोर हो की जैसी हो।

दिसंबर 11, 2017

देते हैं ...कुछ यूँ ही

भावों को हम शब्दों में पिरो देते हैं 
विचारों को वाक्यों में तिरो देते हैं
मेरे भावों को भाव देता है जब कोई
संबल मिलता जो लेखन में सिरो देते हैं |

सिरो...ध्यान, रचनात्मक |

"पांच लिंकों का आनन्द" ब्लॉग में सोमवार ११ दिसंबर २०१७ को कमेन्ट में लिखी |

हाँ! हाँ! क्या बात है 
शब्द शब्द लताड़ रहे न जाने किसको किसको 
सोच बैठे कहीं हमको कह के तो नहीं खिसको 
वाह वाह क्या बात है ! लगी कसके चमात है !! सविता ..

मन के हैं शब्द फूटे 
दिल आपका न टूटे 
छंद-बंद से दूर हैं हम 
भाव बस शब्दों में छूटे | किसी ब्लॉग पे लिखी

दिसंबर 07, 2017

कोई बात हो तभी लिखे

कोई बात हो तभी लिखे यह जरुरी तो नहीं
चोट खाए दिल तभी लिखे यह जरुरी तो नहीं
मन का गुबार निकल जाये यह बात जरुरी है
दिल में रखकर दिल जलाये यह जरुरी तो नहीं |..सविता
----००------
कोई ख़ास नामचीन तो पहले भी ना थे पर अब तो हम गुमनाम होना चाहते हैं ! ........सविता मिश्रा
----००------

जैसे ही साँसों  की डोर टूटेगी, अपनी किमत बढ़ जायेगी ! saविता miश्रा
----००------

बेवकूफ पति अपनी पत्नी को घर की मुर्गी साग बराबर समझते हैं और दुखी रहते हैं  और उसे भी दुःख देते हैं  ...!
और समझदार पति अपनी पत्नी को हूर की परी समझते हैं, खुद भी खुश रहते हैं और उसे भी खुशियाँ ढेर सारी देते हैं |

सविता मिश्रा

नवंबर 20, 2017

कुछ यूँ ही-

जिंदगी हमारी इधर इक खुली किताब भले ही हो 
मगर उसको पढ़ने के सलीके बेहतर रखिये। #सविता मिश्रा #अक्षजा
बस अभी अभी दिल कह गया।
#सोच को रोक सका क्या कोई
--००--
 मेरी जिंदगी की शाम हो तो ऐसी हो
कि अभी अभी हुआ भोर हो की जैसी हो। #sm

----००----

बेनकाब हो जाने का जुनून है सर पर

शर्त यह है आइना सा कोई हो सामने |..सविता यूँ ही

---००----
खुद की उलझनों में उलझ कर प्रभु को
भूल जाना इंसानी फितरत तो ना थी
जब जब उलझता है सुलझने के बाद
उसी को याद कर करके शिकवा करता |

---००---

जन्म लेते ही पेट के लिए जद्दोजहद शुरू हो जाती है और मरने तक कायम रहती है 😂 पापी पेट का सवाल है। Savita Mishra 👩

चार लाइना

ढेरों कमियां है हम में
इस लिए
हम दूर रहते हैं 
मिलकर हमसे कहते हैं लोग
हम बड़े ही मगरूर रहते हैं। sm

अक्तूबर 01, 2017

मैं सूरज नहीं हूँ~

मैं सूरज नहीं हूँ कि ...
अपनी प्रकाश की किरणें
बिखेर दूँ |
मेरा नाम
अवश्य सूर्य का संबोधन है
पर मैं सूरज नहीं हूँ |

अगर अपने नाम का
थोड़ा भी अंश होता मुझमें
तो मैं भारत में रोशनी बिखेरती |

अँधेरे में प्रकाश फैलाती
अन्धों को रास्ता दिखाती |

अगर अंधकार बस
मार्ग भटकता कोई
तो मैं उसे
अँधेरे से निकालकर
सही रास्तें पर लाती|

मगर अफ़सोस कि ..
मैं सूरज नहीं हूँ |


||सविता मिश्रा "अक्षजा" ||