समर्थक

अक्तूबर 10, 2013

##जिद ##

जिद थी अपनी कि जिद छोड़ देगे,
जिद्दी मन कों अपने मोड़ देगे|
पर यह हो ना सका कभी ,
जिद से ही "जिद" कर बैठी|
खुद कों बदलते-बदलते,

अपना ही वजूद खो बैठी |
अब जिद है कि "जिद"को,
अपने अंदर कैद कर लू |
जिद से ही "जिद"कों भूल जाऊ,
पर "जिद" है जिद्दी बहुत ही कैसे भुलाऊ |

||सविता मिश्रा ||
१५ /२/२०१२

2 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज़िद भी जिद्दी है ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज़िद भी जिद्दी है ...