समर्थक

अक्तूबर 01, 2017

मैं सूरज नहीं हूँ~

मैं सूरज नहीं हूँ कि ...
अपनी प्रकाश की किरणें
बिखेर दूँ |
मेरा नाम
अवश्य सूर्य का संबोधन है
पर मैं सूरज नहीं हूँ |

अगर अपने नाम का
थोड़ा भी अंश होता मुझमें
तो मैं भारत में रोशनी बिखेरती |

अँधेरे में प्रकाश फैलाती
अन्धों को रास्ता दिखाती |

अगर अंधकार बस
मार्ग भटकता कोई
तो मैं उसे
अँधेरे से निकालकर
सही रास्तें पर लाती|

मगर अफ़सोस कि ..
मैं सूरज नहीं हूँ |


||सविता मिश्रा "अक्षजा" ||

कोई टिप्पणी नहीं: