समर्थक

सितंबर 29, 2017

सत्य ही लिखो-

लिखो
सत्य ही लिखो !
भले ही वह
थोड़ा कड़वा हो !

सत्य कब
किसे मीठा लगा !

सुनने में भले लगे
बड़ा ही अटपटा
पर सत्य पर असत्य ही
भारी पड़ा है आज !

असत्य को
महत्व दे रहे है जो
सत्य को
कैसे बर्दाश्त कर पायेगें ?

फिर भी बेधडक हो
बिंदास लिखो आज
सहज हो
सत्य का ही उजास लिखो ।

यकीन है हमें
असत्य पर सत्य
विजयी ही होगा
भले थोड़ी देर से सही ...!.

सविता मिश्रा 'अक्षजा'

---------------------०० ---------------------

कोई टिप्पणी नहीं: