समर्थक

जून 23, 2015

तुम वो जो मैं चाहूँ--

तुम लिख दो वो ख़त
जो मैं बांच ही ना पाऊँ !!
फिर भी पढूँ हर रोज
इतराऊ, बलखाऊ खुद पर ...
कि लिखा तुमने !!
कुछ तो उसमें ख़ास
सिर्फ मेरे लिए !!
तुम बोल दो वो वचन
जो गुदगुदा जाए !!
मेरे हृदय तक को....
मनन कर उन शब्दों को
मुस्कराती रहूँ मैं
हर पल, हर घड़ी !!
क्यों बोलोगें न
शहद से मीठे वो बोल !!

ख्यालों में बादल सा घुमड़ों तुम
जहाँ चाहूँ बरसो
जहाँ चाहू ठहर जाओ
पल दो पल ...
देख तुझे इतराऊ मैं
अपनी ही किस्मत पर !!
दिल की धड़कन बन धड़को ...
मैं महसूस करुँ
जब एकांत में होऊँ
गर्व से इतराऊँ कि ..
कोई तो इतना अपना है
हर पल रहता साथ मेरे
बनकर धड़कन मेरी !!

खड़ी होऊँ जब-जब
आईने के समक्ष
मुझमेँ तुम ही दिखो !!
सँवारु मैं खुद को तो ...
सँवर तूम जाओ
तुममें मैं, मुझमें तुम बसो
और एकाकार हो मैं इठलाऊँ !!
बन्द करूं जब -जब आँखे
तुम ही तुम दिखो ..
बसो ऐसे मेरे मन मंदिर में कि
मैं भगवान में भी
तुमको ही निहार पाऊँ....
बताओ न !!
होवोगें ऐसे ही न
जैसे मैं देखना चाहती हूँ तुम्हें !!

.यूँ ही बेख्याली में

सविता मिश्रा 'अक्षजा'
---------------------०० ---------------------

4 टिप्‍पणियां:

Rakesh Kaushik ने कहा…

बहुत खूब

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, जीना सब को नहीं आता - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Sumit Gupta ने कहा…

बेख्याली में अच्छा लिखा है। :)

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

बहुत खूब