समर्थक

दिसंबर 12, 2012

~ ~फायकू ~~


१-पोथी पढ़ी जग मुआ
हम पढ़े बस
तुम्हारें लिए

२-क्रिकेट के पीछे पागल
सब कुछ करे
तुम्हारें लिए

३-भीख मांग गुजारा करतें
ठौर करें हम
तुम्हारें लिए

४-यूँ दर-दर भटक
जियें सदा हम
तुम्हारें लिए

५-अपने प्रिय से अलग
रहतें है हम
तुम्हारें लिए

६-हर कर्म करें हम
जिए मरे भी
तुम्हारें लिए

७-डर-डर जियें हम
सब कुछ सहे
तुम्हारें लिए

८-उजाला तुम ले लो
अँधेरा हम बने
तुम्हारें लिए


९-तुम्हें हर जगह खोजता
चहूओर भटकता रहा
तुम्हारें लिए

१०-समस्या हर कही है
सुलझा लेंगे कुछ
तुम्हारें लिए

११-खुसनसीब थे हम भी
साथ जो हुए
तुम्हारें लिए

१२-जब जब रोयें हम
याद आई तेरी
तुम्हारें लिए


१३-भूख लगी फिर भी
खाएं नहीं हम
तुम्हारें लिए

१४-कुछ ख़ास कर जाऊ
पहचान हो हमारी
तुम्हारें लिए

१५-सोचती रही दिन रात
कुछ आयें ख्याल
तुम्हारें लिए

१६-तुम मेरे गिरधर हम
राधा बन जाएँ
तुम्हारें लिए

१७-कुछ ऐसा ही हो जाएँ
सच ही जीतें
तुम्हारें लिए

१८-फूल बन महके हम
खुसबू बिखेरे चहुतरफ
तुम्हारें लिए

१९-तुम सा ना बने
तुम में समायें
तुम्हारें लिए

२०-हायकू हुआ पुराना अब
फायकू मनभावन लगा
तुम्हारें लिए

सविता मिश्रा

कोई टिप्पणी नहीं: