समर्थक

दिसंबर 01, 2012

तारीफ़ करने से जो डरतें है वही सबसे ज्यादा प्यार करतें है
वाकिफ है हम इस गुप्तगू से क्योकि हम भी तो यही करतें है |...सविता

कोई टिप्पणी नहीं: