समर्थक

मई 03, 2017

पुण्य-

बूढ़े बच्चे एक समान
करो सेवा उनकी बारम्बार
बूढ़ों के प्रति है अगर सम्मान 
तो बच्चों में बसते हैं भगवान |

बूढ़े-बच्चे की सेवा कर 
बढ़ाओ अपने पुन्य कर 
बूढ़ा देगा आशीर्वाद तुम्हें 
तो बच्चा देगा आदर तुम्हें |

बूढों का आदर कर 
सुकून अपार पाओगें
बच्चों में स्वयं भगवान
की झलक देख इतराओगें |

सेवा से मिले शांति 
सेवा से ही मिले भक्ति 
सेवा में ही अपार शक्ति 
सेवा से ही आती कान्ति |

सेवा करके सबका 
हो जाओ सबके मन का
पुन्य कर लो तुम इह लोक 
सवांर लो अपना परलोक |

|| सविता मिश्रा ||
अप्रैल १९८९
 —

कोई टिप्पणी नहीं: