समर्थक

अगस्त 08, 2013

माँ तुम यूँ शांत हो कैसे बैठी हो
गीदड़ देखो दहाड़ रहें हैं
अचानक पीछे से वार कर जवानो की
शरीर से गर्दन ही उड़ा रहें हैं
शेरो का देश हैं फिर भी मौन कैसे हो
सब ऐसे ही जब मौन धरे रहेगें तो
गीदड़ तो हम पर राज ही करेगें
एक बार बस सहनशीलता दिखाएँ तो
उसने हमारी भावनाओं का फायदा उठाया
मार भगा सकने की शक्ति हैं
फिर भी हम हाथ बांधे खड़े हैं
माँ हम क्यों ऐसे मौन पड़े हैं
शर्म से हम ऐसे क्यों गड़े है
माँ तू इशारा बस जरा कर दे
या थोड़ी छुट हमको भी दे दे
खून खौल खौल कर उफान ले रहा
कलम पकड़ बस जबान दे रहा
हाथों में अपने भी तलवार दे दो माँ
एक के बदले दस सर ना ला दू तो कहना माँ
माँ तू यूँ क्यूँ मौन पड़ी हो
कितने दरिंदो से तो अब तक लड़ी हो
अपनों के करनी पर शर्मसार हो
या कुछ नयी तरकीब सोच रही हो
अपने बच्चों के सर देख भी खड़ी हो
खून में उबाल नहीं हो रहा क्या माँ
गरजो तुम दहाड़ो तनिक तो जरा
देखो कैसे ना दुश्मन थर्रा दूम दबाये हो भाग खड़ा
...सविता मिश्रा

कोई टिप्पणी नहीं: